Home > Shilajit > शिलाजीत सेवन के फायदे और नुकसान
शिलाजीत के फायदे

शिलाजीत सेवन के फायदे और नुकसान

शिलाजीत क्या होता है, तो आइए इस पर छोटी सी चर्चा कर लेते हैं। शिलाजीत एक नेचुरल जड़ी-बूटी, है जो सामान्यतः हिमालय और तिब्बत के तीव्र जलवायु क्षेत्रों में पाया जाता है। यह एक तरह का कठिन रेजिन (गोंद जैसा हाइड्रोकार्बन द्रव्य होता है, जो वृक्षों की छाल और लकड़ी से निकलता है), जो पत्थरों और चट्टानों की छालों में बनता है। यह काले-भूरे रंग का और चिपचिपा होता है।

शिलाजीत स्वाद में कड़वा, कसैला होता है। वहीं इसकी तासीर गर्म होती है। शिलाजीत में 80 से भी ज्यादा पोषक तत्व मौजूद होते हैं। शिलाजीत विभिन्न खनिजों, उपयोगी तत्वों, विटामिनों और फुल्विक एसिड्स से भरपूर होता है। इसे ज्यादातर सूखे रूप में बनाया जाता है और यौन समस्याओं, ऊर्जा की कमी, नर्वस हेल्थ और बॉडी हेल्थ में सुधार के लिए इस्तेमाल होता है। इसके अलावा यह उत्तेजना बढ़ाने मे सहायक है व शारीरिक और मानसिक तनाव को कम करने में मदद करती है।

सामग्री तालिका

महिलाओं के लिए शिलाजीत के फायदे

ज्यादार शिलाजीत का सेवन पुरूष अधिक करते हैं, लेकिन महिलाएं भी इसका सेवन कर सकती हैं। शिलाजीत महिलाओं के लिए भी लाभदायक होता है। यह एक प्रकार का प्राकृतिक रत्न है, जो शरीर में खून की कमी को दूर करने में मदद करता है। साथ ही स्ट्रसे को दूर करने में भी सहायक है। आइए थोड़ा विस्तर से जानते हैं कि शिलीजाती महिलाओं को कैसे फायदा पहुंचा सकता है।

यौन स्वास्थ्य के लिए सही

अधिकतर महिलाएं ऑफिस व घर की दोहरी जिम्मेदारियाँ निभाती हैं। ऐसे में स्ट्रेस, कमजोरी, थकान के कारण महिलाओं में कामेच्छा की कमी स्वाभाविक हो सकता है। अब यहीं काम आता है शिलाजीत। क्योंकि शिलाजीत को कामेच्छा की कमी को दूर करने के लिए बेहतर माना जाता है।

दरअसल, शिलाजीत में ऐसे गुण होते हैं, जो दबी हुई यौन इच्छा को उत्तेजित करने में मदद करते हैं। इंटिमेट पॉवर को बढ़ाने में सहायता करते हैं। इतना ही नहीं, इसके सेवन से महिलाओं के ओवुलेशन में भी सुधार होता है।

कमजोर हड्डियों के लिए सही

उम्र के एक पड़ाव (40-45 वर्ष) के बाद ज्यादातर महिलाओं को हड्डियों में दर्द की शिकायत होने लगती है। गठिया रोग की संभावना पुरूषों की अपेक्षा, महिलाओं में ज्यादा होता है। इसलिए इन समस्याओं से बचने के लिए, महिलाएं शिलाजीत का सेवन कर सकती है।

शिलाजीत में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स को कम करके, हड्डियों व गठिया की समस्या से छुटकारा दिलाते हैं। शिलाजीत के सेवन से महिलाओं में जोड़ों के दर्द में भी आराम पहुंचता है, क्योंकि शिलाजीत में कैल्शियम भी होता है।

अनियमित मासिक धर्म में आराम

आज की गलत लाइफ स्टाइल और खानपान के कारण अधिकतर महिलाओं में अनियमित माधिक चक्र की समस्या देखने को मिलती है। जोकि एक गंभीर समस्या बनती जा रही है। अनियमित मासिक धर्म के कारण, महिलाओं की प्रजनन क्षमता (फर्टिलिटी) प्रभावित होती है। इस परेशानी में शिलाजीत का सेवन करना फायदेमंद साबित हो सकता है। नियमित शिलाजीत का प्रयोग पीरियड्स को रेगुलर करने में मदद करता है। जिससे महिलाओं में गर्भधारण की संभावना में वृद्धि होती है।

तनाव-एंग्जायटी दूर करे

एक विशेष नेचुरल औषधि है शिलाजीत, जो महिलाओं के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को सुधारने में मदद कर सकती है। इसका नियमित सेवन तनाव, डिप्रेशन और अनिद्रा को कम करने में मदद कर सकता है और एक पॉजिटिव मेंटल कंडिशन को इम्पूव्र कर सकता है।

शिलाजीत का सेवन यौन संबंधों को भी सुधार सकता है और व्यक्तिगत जीवन में आनंद की लहर ला सकता है।

एनीमिया (खून की कमी) की समस्या में आराम

ज्यादातर महिलाओं को एक समय खून की कमी की दिक्कत का सामना करना पड़ता है। जो अन्य परेशानियों का कारण बन सकता है। लेकिन इस परिस्थिति में शिलाजीत का सेवन करना फायदा पहुंचा सकसा है। शिलाजीत, एनीमिया से ग्रसित महिलाओं के स्वास्थ्य में सुधार करता है। शिलाजीत हीमोग्लोबिन के लेवल, रेड ब्लड सेल्स को बूस्ट करता है।

कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकता है

घातक रोग कैसर की संभावना को कम करने में अहम भुमिका निभाता है शिलाजीत। इस नेचुरल औषधी की मदद से कैंसर सेल्स की वृद्धि में कमी आती है। दरअसल एंटीऑक्सीडेंट नामक गुण शिलाजीत में मौजूद होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स को कम करने में सहायता करते हैं।

डायबिटीज को करे नियंत्रण

शिलाजीत रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में सहायता करता है। इसलिए शिलाजीत को डायबिटीज मरीजों के लिए लाभदायक माना जाता है। लेकिन ब्लड शुगर का लेवल हाई रहता है, तो चिकित्सक से सम्पर्क करके ही शिलाजीत का सेवन करना चाहिए।

शिलाजीत का सेवन कैसे करें?

कैप्सूल, पाउडर और लिक्विड के फॉम में शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं। दूध के साथ शिलाजीत के सेवन को ज्यादा फायदेमंद माना गया है। समय की बात करें, तो शिलाजीत का सेवन रात को करना ज्यादा लाभ पहुंचा सकता है। जहां तक इसकी मात्रा की बात है, तो डॉक्टर की सलाह से ही तय मात्रा ले सकते हैं।

शिलाजीत कैप्सूल खाने के फायदे

शिलाजीत कैप्सूल से स्वास्थ्य लाभ

शिलाजीत एक प्राकृतिक औषधी, है जिसका विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं के उपचार में इस्तेमाल किया जाता है। शिलाजीत, कैप्सूल के रूप में भी उपलब्ध होता है और इसके सेवन से विभिन्न स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं। जो कुछ इस प्रकार हैं।

  1. ऊर्जा और ताकत :
    शिलाजीत कैप्सूल का सेवन नियम से करने से शारीरिक ऊर्जा बढ़ती है और शरीर को ताकत मिलती है। यह उत्तेजना देने वाली गुणनुमा रेजिन, शारीरिक और मानसिक तनाव को कम करने में मदद करती है।
  2. शिलाजीत के फायदे
    कामेच्छा व उत्तेजना की कमी को दूर करने में शिलाजीत का इस्तेमाल किया जा सकता है। ये टेस्टोस्टेरोन को भी बूस्ट करने में सहायक औषधी साबित हो सकती है। शिलाजीत कैप्सूल का नियमित सेवन यौन इच्छा को बढ़ाकर यौन संबंधों में सुधार कर सकता है।
  3. शिलाजीत के फायदे
    यह मानसिक और शारीरिक तनाव को कम करने में मदद कर सकता है, जो व्यक्ति को एक्टिव और एनर्जेटिक (ऊर्जावान) बनाये रखने में मदद करता है।
  4. शिलाजीत के फायदे
    शिलाजीत कैप्सूल का नियमित सेवन नर्व हेल्थ को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है और यौन समस्याओं को ठीक करने में सहायक हो सकता है।
  5. शिलाजीत के फायदे
    शिलाजीत कैप्सूल की सही मात्रा और उपयोग, आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह लेकर करना जरूरी है।

शिलाजीत किस मौसम में खाना चाहिए?

शिलाजीत आमतौर पर सर्दियों के मौसम में खाना चाहिए। सर्दी के मौसम में शिलाजीत का सेवन करने से शरीर को विभिन्न प्रकार के लाभ मिलते हैं। यह मौसम शरीर की ऊर्जा को बढ़ाने और नर्वस सिस्टम को सुधारने के लिए बेहतर होता है। ठंडी के मौसम के दौरान थकान को दूर कर सकता है।

ध्यान देने वाली बात है कि इस आौषधि की सही मात्रा और इस्तेमाल व्यक्तिगत के शारीरिक स्थिति को देखते हुए अलग-अलग हो सकता है। इसलिए इसका सेवन करने से पहले एक डॉक्टर से परामर्श करना अच्छा है।

पुरुषों के लिए शिलाजीत के फायदे

हेल्थ से रिलेटिड प्रॉब्लम्स, शिलाजीत को यूज़ करने से दूर हो सकती हैं। इसके कई बेनेफिट्स पुरूषों को मिल सकते हैं। इसकी मदद पुरुषों के बांझपन, हार्ट हेल्थ जैसी परेशानियों को दूर कर सकते हैं। आइए जानते हैं पुरुषों के लिए शिलाजीत के क्या फायदे हैं?

दिल रहे स्वस्थ :

शिलाजीत के सेवन से दिल को स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद मिलती है। इसमें मौजूद पोषक तत्व हार्ट के लिए बेहतर हैं और दिल के कार्यों को सहारा प्रदान कर सकते हैं।

शिलाजीत वसा अवस्था को कंट्रोल करके ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने व खून में,कोलेस्ट्रोल के लेवल को कम करने में मदद कर सकता है और दिल के रोगों की संभावना को कम कर सकता है। इसके अलावा, यह दिल को जरूरी ऑक्सीजन और पोषण पहुंचाने में भी सहायक होता है।

टेस्टोस्टेरोन का लेवल बेहतर बनाये :

शिलाजीत का सेवन पुरूषों में टेस्टेस्टेरोन के स्तर की कमी को दूर कर सकता है। यह एक यौन स्वास्थ्य से संबंधित मेल हार्मोन है, जो पुरूषों में कामेच्छी की कमी में सुधार ला सकता है। साथ ही पुरूषों की कई शारीरिक परेशानियों को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है।

इनफर्टिलिटी की परेशानी करे दूर :

पुरूषों में इनफर्टिलिटी की समस्या को शिलाजीत दूर करने में मदद कर सकता है। इसमें मौजूद पोषक तत्व शुक्राणुओं की गतिविधि को सुधार सकते हैं और वीर्य की गुणवत्ता में सुधार कर सकते हैं। शिलाजीत वीर्य की मात्रा और गति को बढ़ाकर यौन संबंधों में सुधार कर सकता है।

यह विशेष रूप से उन पुरुषों के लिए फायदेमंद हो सकता है जो इनफर्टिलिटी की समस्या से जूझ रहे हैं। फिर भी, शिलाजीत का नियमित सेवन विशेषज्ञ की सलाह के साथ करें और सही खुराकों का पालन करें।

शुक्राणुओं की संख्या में करे वृद्धि :

पिता बनने के लिए पुरुषों का स्पर्म काउंट बेहतर होना चाहिए। अगर किसी कारण से पुरुषों में स्पर्म काउंट की संख्या घट रही है तो इस स्थिति में
संतान सुख की प्राप्ति के लिए पुरूषों में शुक्राणुओं की संख्या बेहतर होना जरूरी होता है।

अगर किसी भी वजह से पुरूषों में स्पर्म काउंट कम हो रहा है, तो इस स्थिति में शिलाजीत का सेवन अहम भुमिका निभा सकता है। साथ ही वीर्य की क्वालिटी को सुधारकर कर यौन स्वास्थ्य और यौन जीवन को भी सुधार सकता है।

इस प्रकार शिलाजीत पुरूषों के लिए कई प्रकार से फायदेमंद साबित हो सकता है। हालांकि, इस बात का विशेष ख्याल रखें कि शिलाजीत का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।

शिलाजीत कितनी देर में असर करता है?

शिलाजीत का असर व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। लेकिन इसका वास्तविक और स्थायी लाभ उसके नियमित उपयोग पर निर्भर करता है। शिलाजीत के असर को देखने के लिए सामान्यतः 2 से 4 हफ्तों का समय आमतौर पर आवश्यक होता है।

इस समय के दौरान, व्यक्ति को ताकत महसूस हो सकती है, मानसिक चिंताओं में कमी आ सकती है और सामान्य स्वास्थ्य में सुधार देखा जा सकता है। फिर भी शिलाजीत का असर अलग-अलग व्यक्तियों के शारीरिक स्थितियों, उम्र और विशेष आवश्यकताओं पर निर्भर करेगा।

शिलाजीत कब खाना चाहिए?

सुबह का समय शिलाजीत के सेवन के लिए सबसे बेहतर माना जाता है। इसे भोजन के पहले या भोजन के बाद कुछ घंटे बाद लेना अधिक फायदेमंद हो सकता है। शिलाजीत की सही मात्रा आवश्यकताओं और व्यक्तिगत स्थितियों पर निर्भर करती है।

आमतौर पर, दिन में 300-500 मिलीग्राम की मात्रा उपयुक्त की जाती है। यदि कोई व्यक्ति अन्य औषधियों का सेवन कर रहा है या उन्हें किसी विशेष रोग से प्रभावित होने की संभावना है, तो वे डॉक्टर की सलाह पर ही शिलाजीत का सेवन करें।

शिलाजीत खाने के बाद क्या नहीं खाना चाहिए?

शलाजीत एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक व उपयोगी औषधि है, जिसे विभिन्न स्वास्थ्य लाभों के लिए प्रयोग किया जाता है। शिलाजीत का सेवन करने के बाद निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना उचित है।

खट्टे फल

अगर शिलाजीत का सेवन कर रहे हैं, तो ध्यान रखना चाहिए कि शिलाजीत खाने के बाद खट्टे फलों से परहेज करें। शिलाजीत और खट्टे फल एक साथ सेवन करने से अपच, जलन जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। साथ पाचन संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। खट्टे फल और शिलाजीत साथ में खाने से अम्लता बढ़ सकती है और हेल्थ बिगड़ सकती है।

मांस या मछली

अगर दूध के साथ शिलाजीत का सेवन करते हैं, तो इसके बाद मांस या मछली आदि का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से अपच के साथ त्वचा संबंधी रोग होने की संभावना हो सकती है।

गर्म पानी

कई बार शिलाजीत को शहद के साथ खाने की सलाह विशेषज्ञ देते हैं। तो ऐसे में इसे गर्म पानी के साथ ना लें। दरअसल ऐसा करने से शरीर में टॉक्सिन्स का निर्माण हो सकता है। हेल्थ और स्कीन से जुड़ी प्रॉब्लम्स हो सकती हैं।

मूली

दूध के साथ शिलाजीत का सेवन करने वाले लोगों को इस दौरान मूली नहीं खाना चाहिए। इन दोनों को साथ में सेवन करने से पाचन तंत्र गड़बड़ा सकता है।

तीखे और मसालेदार खाद्य

शिलाजीत के सेवन के बाद तीखे, धुली हुई और अधिक मसालेदार खाद्य का सेवन नहीं करना चाहिए। इन तत्वों का अधिक सेवन पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकता है।

उबले हुए अंडे

शिलाजीत के सेवन के बाद उबले हुए अंडे नहीं खाने चाहिए। इसमें अधिक मात्रा में अधिक वसा हो सकता है, जो पाचन को प्रभावित कर सकता है।

अधिक मिठाई और चीनी वाले खाद्य पदार्थ

अधिक मिठाई और चीनी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। इनमें अधिक मात्रा में शक्कर या चीनी हो सकती है जो, स्वास्थ्य के लिए हानिप्रद हो सकती है।

शिलाजीत किस उम्र में खाना चाहिए?

आयुर्वेदिक औषधि शिलाजीत, विभिन्न उम्र वर्गों के लिए उपयोगी है। लेकिन यह व्यक्तिगत चिकित्सा इतिहास और शारीरिक स्थितियों पर निर्भर करता है।

  • बच्चों (0-12 वर्ष) : बच्चों को आमतौर पर शिलाजीत का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि उनके शारीरिक विकास के लिए इसकी जरुरत नहीं होती है।
  • किशोर (13-19 वर्ष) : किशोरों में शिलाजीत का सेवन केवल चिकित्सक की सलाह पर करना चाहिए। खासकर अगर उनके शारीरिक या मानसिक स्थितियों के लिए उपयुक्त हो।
  • युवा वयस्क (20-40 वर्ष) : युवा वयस्क शिलाजीत का सेवन कर सकते हैं, लेकिन सम्मान्य स्वास्थ्य और शारीरिक स्थितियों के आधार पर। अगर कोई व्यक्ति किसी विशेष समस्या से जूझ रहा है, तो वे पहले डॉक्टर से परामर्श करें।
  • मध्यवयस्क (41-60 वर्ष) : इस आयु वर्ग में, शिलाजीत का सेवन आमतौर पर स्वास्थ्य लाभों के लिए किया जाता है। खासकर उन व्यक्तियों के लिए जिन्हें ऊर्जा की आवश्यकता हो और थकान महसूस हो।
  • वृद्ध (61$ वर्ष) : वृद्ध वयस्कों के लिए शिलाजीत विटामिन्स, खनिज तत्व और ऊर्जा प्रदान करने में मदद कर सकता है। इससे उनकी ऊर्जा का स्तर और शारीरिक बल व स्टेमिना में सुधार हो सकता है।

ध्यान देने वाली बात यह है कि शिलाजीत का सेवन जिम्मेदारी और स्वास्थ्य जागरूकता के साथ करना चाहिए। शिलाजीत को अधिक मात्रा में लेने से नुकसान हो सकता है, इसलिए इसे चिकित्सक की देखरेख में उचित विधि और मात्रा में लिया जाना चाहिए।

शिलाजीत कहां से खरीदें?

शिलाजीत को आप भरोसेमंद और प्रमाणित आयुर्वेदिक दवाई की दुकानों, आयुर्वेदिक केंद्रों से खरीद सकते हैं। इसके अलावा, आप ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफार्मों (व्यापारिक प्लेटफार्मों) और ई-कॉमर्स वेबसाइटों से भी शिलाजीत खरीद सकते हैं।

ध्यान दें कि आपको शिलाजीत खरीदते समय इसकी प्रमाणिकता और भरोसेमंद की ओर ध्यान देकर चयन करना ज्यादा महत्वपूर्ण है। आप अपने निकट आयुर्वेदिक दवा की दुकानें या आयुर्वेदिक चिकित्सालय से भी शिलाजीत खरीद सकते हैं। वहाँ आपको विशेषज्ञ इसके उपयोग और उचित मात्रा के बारे में सलाह दे सकते हैं। ऑनलाइन खरीदारी करते समय ध्यान दें कि आप केवल प्रमाणित और भरोसेमंद वेबसाइटों से खरीदारी करें।

अब शायद आपके मन में ये प्रश्न आ रहा हो कि कैसे भरोसेमंद और शुद्ध शिलाजीत चुने और खरीदें? तो यहां हम आपको कई लोगों की भरोसेमंद और शुद्ध शिलाजीत का जानकारी दे रहे हैं। आप सूरज हबल्स कंपनी का शिलाजीत खरीद सकते हैं।

इसके लिए आप वेबसाइट सूरज हर्बल्स डॉट कॉम को लॉग-ऑन करें। यहां पर आप शिलाजीत की पूरी जानकारी प्राप्त करके इसे खरीद सकते हैं। ये कैप्सूल के रूप में आते हैं, जिसमें शिलाजीत के साथ, अश्वगंधा, सफेद मूसली और कौंच बीज जैसी शक्तिशाली जुड़ी-बूटियों का मिश्रण शामिल है। जो इस औषधि को और भी ज्यादा इफेक्टिव, पॉवरफुल और शुद्ध बनाते हैं।

सूरज हर्बल्स का शिलाजीत ही क्यों?

आयुर्वेदिक संस्था सूरज हर्बल्स कई वर्षों से अपनी स्वयं की देखरेख में अनुभवी टीम के साथ आयुर्वेदिक औषधियों पर काम कर रहा है। जो अपने सभी स्वास्थ्य संबंधी प्रोडक्ट्स पर पूरी लगन से काम करते हुए. इसकी शुद्धता पर भी ध्यान देती है।

आयुर्वेदिक औषधियों के बनाने में किसी भी प्रकार के केमिकल्स या स्टेरॉइड का इस्तेमाल नहीं करता है। ताकि बिना किसी स्वास्थ्य नुकसान (साइड इफेक्ट) के रोगी को पूरा स्वास्थ्य लाभ प्राप्त हो सके।

जहां तक शिलाजीत की बात है तो आप सूरज हर्बल्स के शिलाजीत पर पूरा भरोसा करके, इसे खरीद सकते हैं। क्योंकि इसके नियमित सेवन से शीरीर में स्टेमिना, पॉवर और ऊर्जा शक्ति का संचार होता है।

जिसकी मदद से हर वक्त कमजोरी, थकान और आलस्य जैसे अवगुण दूर होने में मदद मिलती है। एक्स्ट्रा जोश और ताकत महसूस होता है, जो जीवन में रोजमर्रा के कार्यों को आसान बनाने में मददगार साबित होते हैं। पुरूष व महिला दोनों ही इसका सेवन करके एक स्वस्थ जीवन का आनंद ले सकते हैं।

बच्चों के लिए शिलाजीत के फायदे

बच्चों के लिए शिलाजीत के कुछ फायदे हो सकते हैं, लेकिन इसे बच्चों को सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। यहां कुछ आम तरीके हैं जिनमें बच्चों द्वारा शिलाजीत का उपयोग किया जा सकता है।

  1. शारीरिक ऊर्जा में वृद्धि : शिलाजीत में मौजूद पोषक तत्व शारीरिक ऊर्जा को बढ़ा सकते हैं और बच्चों को उत्साह से भरा हुआ रख सकते हैं।
  2. शारीरिक और मानसिक विकास में मदद : शिलाजीत में मौजूद विटामिन, खनिज तत्व और पोषक तत्व बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास में मदद कर सकते हैं।
  3. इम्यून सिस्टम को मजबूती देना : यह बच्चों के इम्यून सिस्टम को स्वस्थ रखने में मदद कर सकता है, जो उन्हें वायरस और इन्फेक्शन से बचाने में मदद कर सकता है।
  4. शारीरिक शक्ति और तंदुरुस्ती : शिलाजीत बच्चों की शारीरिक शक्ति और तंदुरुस्ती को बढ़ा सकता है, जिससे उनके दिनचर्या को और भी जोश्पूर्ण और ऊर्जावान बनाया जा सकता है।
  5. भूख और पोषण : शिलाजीत में मौजूद पोषक तत्व बच्चों की भूख बढ़ा सकते हैं और उन्हें सही पोषण प्रदान कर सकते हैं।

यहाँ ध्यान देने वाली बात है कि शिलाजीत का सेवन बच्चों को उनके उम्र और शारीरिक स्थिति के आधार पर होना चाहिए। इसे बच्चों को सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना आवश्यक है।

शिलाजीत के नुकसान

यदि शिलाजीत को सही रूप से नहीं लिया जाता या अधिक मात्रा में उपयोग किया जाता है, तो इससे कुछ नुकसान हो सकते हैं। शिलाजीत के कुछ मुख्य नुकसान निम्नलिखित हैं..

  • शरीर में अत्यधिक गर्मी उत्तेजना : शिलाजीत गर्म तासीर वाली हो सकती है, जो किसी के लिए जरूरत से ज्यादा उत्तेजक रिजल्ट दे सकती है। विशेष रूप से उन लोगों को यह समस्या हो सकती है जिन्हें उत्तेजना को नियंत्रित करने में कठिनाई होती है।
  • यौन सम्बन्धी रोग होने का खतरा : यदि कोई व्यक्ति यौन संबंध बनाने के लिए शिलाजीत का उपयोग कर रहा है और उन्हें यौन संबंधी समस्याएं हैं, तो वे डॉक्टर से सलाह जरूर लें। इसके सही इस्तेमाल का पालन करना जरूरी है।
  • उल्टी होना : कुछ व्यक्तियों को शिलाजीत खाने के बाद उल्टी की समस्या हो सकती है। ऐसे मामलों में इसे तुरंत बंद कर देना चाहिए और डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।
  • बैचेनी की शिकायत : कुछ व्यक्तियों को शिलाजीत के सेवन के बाद बैचेनी की शिकायत हो सकती है। यदि यह समस्या होती है, तो उन्हें इसे तुरंत बंद कर देना चाहिए।
  • हार्ट बीट बढ़ना : शिलाजीत का सही रूप से इस्तेमाल नहीं होने पर हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट बीट तेज होने की समस्या हो सकती है।

ध्यान दें कि शिलाजीत का सेवन डॉक्टर की सलाह के बिना न करें।