Home > Men Health and wellness > लिंग पर दाने का इलाज – Bump or Pimple on Penis in Hindi
लिंग पर दाने का इलाज - Bump or Pimple on Penis in Hindi

लिंग पर दाने का इलाज – Bump or Pimple on Penis in Hindi

अक्सर कई पुरूषों के लिंग पर दाने निकल आते हैं। लिंग पर दाने होने के कारण पुरूष ये समस्या किसी से बताने में संकोच करते हैं। अगर आपके लिंग में भी दानें, खुजलि या संक्रमण की समस्या हो रही है, तो इसे छिपाये नहीं। अन्यथा ये समस्या आगे चलकर गंभीर परिणाम के रूप में सामने आ सकती है। पेनिस पर पिम्पल का इलाज करायें और एक स्वस्थ यौन जीवन जिएं।

पेनिस पर पिप्पल होने के कारण STD रोग होने की संभावना भी बनी रहती है। STD यानी सेक्शुअली ट्रांसमिटेड डिसीज (Sexually transmitted disease)। ये समस्या पुरूषों और महिलाएं दोनों को अस्वस्थ यौन संबंध बनाने से हो सकती है। इसमें स्त्री और पुरूष के यौनांगों में इंफेक्शन जैसी समस्या देखने को मिलती है। इसके अलावा ये अन्य प्रकार के रोग भी हो सकते हैं। जैसे- वायरस संक्रमण, प्यूबिक लाइस, एचआईवी, हर्पीज, हेपेटाइसिस आदि।

क्या है पेनिस पिंपल्स?

लिंग पर छोटे-छोटे दाने उभर आना पेनिस पिंपल्स कहलाता है। कुछ लोग ऐसा मानते हैं कि अधिक मात्रा में यौन संबंध बनाने के कारण ऐसा होता है। लिंग पर दाने होना, पुरूषों के यौन जीवन को कष्टदायी बना देता है। क्योंकि लिंग पर दाने होने से संभोग के समय घर्षण करने में परेशानी होती है। जोकि कई पुरूषों के लिए पीड़ादायक साबित हो सकता है। पेनिस पर पिंपल्स के कारण पुरूषों के सेक्स परफॉरमेंस पर काफी असर पड़ता है।

कितना गंभीर रोग है पेनिस पिंपल्स?

लिंग की चमड़ी पर दानें निकल आना सामान्य बात है। इसके लिए ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है। लिंग की त्वचा पर महीन छिद्र होते हैं। जिनमें तैलीय ग्रंथियां होती हैं। इन ग्रंथियों में अवरोध के कारण ही लिंग पर दाने निकल आते हैं। ये समस्या शरीर के किसी भी हिस्से में उत्पन्न हो सकती है। ये दाने कुछ समय बाद स्वतः ही ठीक हो जात हैं या कम होने लगते हैं।

पेनिस पर दानें कब बड़ी समस्या बन सकती है?

दानों के आकार व मात्रा में वृद्धि होने लगे, तो समझ लीजिए कि ये पेनिस अल्सर का लक्षण है। इसके लिए डॉक्टर (सेक्सोलॉजिस्ट) से अवश्य संपर्क करना चाहिए। दानों का आकार व संख्या बढ़ जाने के कारण संभोग, पीड़ादायक बन जाता है।

पेनिस पर पिंपल्स (Pimples on male penis) बहुत ज्यादा हों या लाल धक्के बन जाना। इस समस्या को हल्के में लेने की गलती नहीं करनी चाहिए। क्योंकि कई बार ये किसी गंभीर संक्रमण/एलर्जी (penis infection) या यौन संचारित रोग का संकेत भी हो सकता है।

शुरूआती लक्षणों में कैसे बचाव करें?

सर्वप्रथम तो स्वच्छ जल से लिंग की सफाई करें। फिर किसी शुद्ध लोशन का लेप लिंग पर लगायें। लोशन लगाने के पश्चात् लिंग को एकदम हल्के हाथों से धो लें। इसके बाद साफ अंडरवियर पहन लें। इस प्रयोग को करने के बाद रात में संभोग न करें। अगली सुबह आपको लिंग के दानों से छुटकारा मिल जायेगा। या फिर लिंग पर दाने धीरे-धीरे कम होने शुरू हो जायेंगे।

आइए लिंग से जुड़ी कुछ समस्याओं के बारे में जानते हैं..

लिंग में फोर्डाइस स्पॉट्स (Fordyce spots)

एक प्रकार के सफेद व पीले धब्बे जैसे होते हैं, जो पुरूषों के लिंग (Fordyce spots on male penis)  पर हो सकते हैं। साथ ही अंडकोश (Scrotum) पर भी नजर आ सकते हैं। अक्सर देखा गया कि इस समस्या में पुरूषों को लिंग में दर्द नहीं होता है। लेकिन इस प्रकार के धब्बे दिखाई देने पर चिकित्सक से परामर्श अवश्य लें। क्योंकि ये लक्षण STD के भी हो सकते हैं।

पियर्ली पेनाइल पेप्युल्स (Pearly penile papules)

इस प्रकार के दाने लिंग के मुखाने पर स्थिति होते हैं। यह दानें जब आकार में बड़े होने लगते हैं, तो इनमें पीड़ा होने लगती है। इन बड़े आकार वाले दानों को ही पियर्ली पेनाइल पेप्युल्स कहते हैं। ये दानें ऐेसे होते हैं, कि इनमें पस नहीं होता। न खुजलि और न ही इनसे खून बहता है। ये दाने लिंग के स्वास्थ्य के लिए अधिक नुकसानदेह नहीं होते। एक या फिर एक से ज्यादा पंक्ति में ये दाने होते हैं। पियर्ली पेनाइल पेप्युल्स के कारण के बारे में हमें अधिक जानकारी प्राप्त नहीं है। लेकिन इतना जरूर है कि ये समस्या संभोग से संबंधित नहीं है।

मॉल्युस्कम कॉन्टेजियोसम (Molluscum contagiosum)

यह एक प्रकार की सामान्य समस्या होती है, जिसका रंग लिंग की त्वचा के समान ही होता है। लिंग में खुजलि या दर्द जैसी परेशानी भी महसूस नहीं होती। यह समस्या धीरे-धीरे स्वयं ही ठीक हो जाती है।

जेनिटल वॉर्ट्स (Genital warts)

जेनिटल वॉर्ट्स को गंभीर समस्या के रूप में देखा जाता है। क्योंकि कई बार ये STD के लक्षण साबित होते हैं। इनका रंग त्वचा के जैसा ही होता है। बेशक इनमें पीड़ा महसूस नहीं होती, लेकिन आहिस्ता-आहिस्ता इनकी संख्या बढ़ने लगती है। फिर इनका समूह घाव के रूप में परिवर्तित हो जाता है। इसलिए जब भी आपको ऐसे लक्षण दिखाई दें, तो तुरन्त चिकित्सक से जरूर जांच करायें।

लिंग में खुजली होना (Itching in Penis)

पुरूष हो या महिला दोनों को यौनांगों में खुजलि की समस्या हो सकती है। गुप्तांग में खुजलि होना एक सामान्य समस्या है। खुजिल तो शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकती है। लेकिन लिंग को बार-बार खुजलाने से है लिंग में घाव होने की संभावना बढ़ जाती है। लिंग में पसीने से या लिंग की साफ-सफाई नहीं रखने के कारण लिंग में मामूली दानें निकल आते हैं। इन दानों में खुजलि होती है और खुजलि के बढ़ जाने पर पुरूष लिंग को रगड़ कर खुजलाने लगते हैं। जिससे घाव उत्पन्न हो जाता है। यह घाव बढ़ जाने पर लिंग के आसपास की त्वचा में भी संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *